Ayodhya Ramlala Jewellery: अयोध्या के राजा रामलला ने पहने 17 आभूषण सिर से पांव तक दिखे जानिए पूरी जानकारी

Ayodhya Ramlala Jewellery: अयोध्या के राजा राम मंदिर में विराजमान हो गए है. लोगो का यह बहुत बड़ा सवाल है कि हमारे रामलला ने सिर से लेकर पैर तक सोने और रत्नों के आभूषणों से सजे हुए है। जिनको देखने के लिए लोगो को देखने की उत्साह हो रही है.

सनातन धर्म का अयोध्या में राम मंदिर में विराजमान रामलला के आभूषण Ayodhya Ramlala Jewellery तो हमारे अध्यात्म रामायण, वाल्मीकि रामायण, रामचरितमानस और अलवंदर स्तोत्र जैसे ग्रन्थों पर लंबी रिसर्च और स्टडी करने के पश्चात ही उनको तैयार कराया गया है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस बात की इन्फॉर्मेशन मंदिर ट्रस्ट ने दी है। वैसे तो रामलला के आभूषण बदायूं के सर्राफ हरसहायमल श्यामलाल ज्वेलर्स की लखनऊ ब्राँच ने सभी आभूषण तैयार किए थे। अयोध्या के कवि यतेंद्र मिश्रा के निर्देश पर रामलला के गहने बनाए गए है। चलिए रामलला ने कौन कौन से गहने पहने हुए है।

रामलला के 17 आभूषण

तो हम आपको बताएंगे कि रामलला के 17 आभूषणों के नाम की उन्होंने क्या क्या पहना हुआ है इन सभी 17 आभूषण के नाम हमने बताए है। उनको आप पढ़ सकते हो।

शीष पर मुकुट, या किरीट

हमारे भगवान Ramlala ने उत्तर भरतीय परम्परा के मुताबिक सोने से बना सिर पर मुकुट धारण क्या हुआ है. उसमे माणिक्य, पन्ना, हीरे जड़े हुए है. इस मुकुट के बीच में भगवान सूर्य विराजमान है.और मुकुट के दायी और मोतियों की लाडिया लगी हुई है।

रामलला के कुंडल

हमारे रामलला के कानों में आपको एक खूबसूरत का कुंडल पहना हुआ है. जिसमे मोर का चित्रण बना है. सोने से बने भगवान के इन कुंडलों में हीरे, माणिक्य और पन्ना जड़े है।

रामलला का कण्ठा

भगवान राम के गले मे पेश कीमती रत्नों से जड़ा अर्द्धचंद्रकार कंठा पहना है. जिसमे मंगल का विधान रचते हुए फूल अर्पित किए गए है। उसके बीच में आपको सूर्य की आकृति बनी दिखेगी इस सोने के कण्ठे में हीरे, माणिक्य और पन्ना जड़ा लगा हुआ है. उसके नीचे पन्ने की लड़िया लगाई गई है।

रामलला के ह्रदय पर कौस्तुभमणि

हमारे रामलला ने कौस्तुभमणि धारण क्या गया है. इसमें माणिक्य और हीरों से सजावट की गई है. सनातन धर्म के अनुसार भगवान विष्णु और उनके अवतार ह्रदय कौस्तुभमणि को धारण करते हैं. इसीलिए रामलला को भी कौस्तुभमणि पहनाया गया है।

रामलला के पदिक

राम जी के गले के नीचे नाभिकमल के ऊपर हार पहनाया गया है. देव अलंकरण में इसकी महत्वता काफी है. पदिक 5 लड़ियों वाले हीरे और पन्ने का पँचलड़ा है. इसके नीचे बहुत बड़ा सूंदर और जड़ाऊ पेंडेंट लगाया गया है।

वैजयंती या विजयमाल

यह रामलला का तीसरा सोने का वैजयंती हार है. इस हार के जगह जगह पर माणिक्य जड़े हुए है. इसे भगवान को विजय का प्रतीक के रूप में पहनाया जाता है. जिसमे वैष्णव परंपरा के सभी मंगल चिन्ह, सुदर्शन चत्र, पद्यपुष्प, शंख और मंगल कलश उसमे बने हुए है. इसके पांच तरह के देवो को पसंदीदा फूलो को खूबसूरती से सजाया गया है. इसमे कमल,चंपा,पारिजात,कुंद और तुलसी हैं।

कमर में कांची या करधनी

राम जी को कमर में रत्नों से जड़ा करधनी पहनाया है. सोने से बनी करधनी में हीरा, माणिक्य, मोती, पन्ना जड़े गए है. इसकी पवित्रता के लिए पाँच घंटियों लगाई गई है. फिर इन घंटियों पर पन्ना, मोती, माणिक्य की लाडिया लगी हुई है।

भुजबंद या अंगद

रामलला को दोनों भुजाओं में सोने और रत्नों से जड़े भुजबंद पहनाए गए थे।

कंकण,कंगन

राम जी को दोनों हाथों पर हीरे, मोती जैसे रत्नों से जड़े खूबसूरत कंगन पहनाए गए थे।

रामलला की मुद्रिका

रामलला ने दाए और बाए दोनों हाथों में मुद्रिकाए धारण की गई है. जिसमे की इस अंगूठियों में रत्नों से जड़े है और मोती लटक रहे है।

पैरों में छड़ा और पैजनियां

रामलला से पैरों में छड़ा और पैजनियां पहनाए गई है. जिससे भगवान के पैर की सुंदरता बढ़ी रहे यह भी सोने ही है।

रामलला के बाएं हाथ में धनुष

भगवान राम के बाएं हाथ मे सोने का धनुष पहनाया गया है इनके धनुष में आपको मोती, माणिक्य और पन्ने की लड़ियों से सजाबट करी गई है. हाहीने हाथ मे सोने का बाण राम को पहनाया है।

रामलला के गले में वनमाला

इनके गले मे रंग बिरंगे फूलो की आकृतियां वाली वनमाला पहनाई है. इसको हस्तशिल्प के लिए समर्पित शिल्पमज़री संस्था ने इसको बनाया है।

रामलला के मस्तक पर तिलक

राम जी8 के मस्तक पर मंगल तिलक पहनाया है. जिसमे हीरे औ माणिक्य जड़े हुए हैं।

रामलला के चरणों के नीचे कमल

रामलला के चरणों के नीचे कमल शोभायमान है जिसके नीचे सोने की माला सजी हुई है।

रामलला के खिलौने

भव्य राम मंदिर में पांच साल के बाद रामलला विराजमान हुए है. तो उनके खेलने के लिए चांदी से बने खिलौने रखे गए हैं. खिलौनों में झुनझुना, हाथी, घोड़ा, ऊंट, खिलौनागाड़ी और लट्टू शामिल है।

रामलला के मस्तक के पर छत्र

भगवान रामलला के प्रभा-मंडल के ऊपर सोने का छत्र लगा गया है।

 

Telegram channel
Whatsapp Channel

Leave a Comment