Chandrayaan3:- चंद्रयान ने की चाँद पर सफल लैंडिंग, भारत ने रचा इतिहास

Chandrayaan 3 :- भारत ने पहले चन्द्रयान-1 मिशन लॉच क्या था जिसमे चन्द्रयान ने चाँद पर पानी के होने का सबूत लाता है लेकिन अवशोस चन्द्रयान-2 फैल हो गया था जिसे अमेरिका, जपान, चीन, रशिया, योरोप कई देशों में चांद पर जाने के लिए मिशन की प्रक्रिया में फिर से शूरू हो गई लेकिन सभी लोगो और देशो की नजर इंडिया के मिशन चन्द्रयान-3 पर है कि वो किस चीज की खोज करके लाएगा।

Chandrayaan 3 :- भारत ने रच डाला इतिहास?

चन्द्रयान-3 के मिशन ने मंगलवार को कैमरे से ली गई फ़ोटो को साझा क्या इसरो के हिसाब से अभी तक सब कुछ सही चल रहा है चन्द्रयान-3 तेज रफ्तार से अपनी गति को पकड़ रहा है चन्द्रयान-3 को पहुंचाने में अभी 4 घण्टे बचे चाँद की सतह को छूने को वह सेफ लैंडिंग करके इंडिया इतिहास रच देगा।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

पहले तो लैंडिंग एरिया है और बड़ा कर दिया गया है जहाँ चन्द्रयान-2 के लिए 500×500 मीटर का पैच था लेकिन वही इस बार चन्द्रयान-3 4km×2.4km के एरिया में कही भी सेफ लैंड कर सकता है पहली बार से 40 गुना बढ़ा एरिया है इस बार चन्द्रयान-3 में मौजूद विक्रम लैंडिंग को ज्यादा fule दिया गया है जिसे वह ज्यादा देर तक हवा में रह पाए ओर सही जगह ढूढ़कर सेफ लैंडिंग कर सके।

Chandrayaan 3
Chandrayaan 3

इसके सॉफ्टवेयर को अपडेट क्या गया है जिसे वह ज्यादा देरी तक घूम पाए चन्द्रयान-3 में कुछ मोडिफिकेशन चेंज की गई है जैसे कि इसके पैरो को काफी मजबूत बनाए गए है ओर इस पर ज्यादा सोलर सेल्स लागए गए है ओर सेंसर थोड़े इम्प्रोव करे गए है चन्द्रयान-2 की तरह Chandrayaan-3 का भी मिशन साउथ पॉल पर लैंड करना है ओर एक रोबर उतारना है क्योंकि उसको 1 Lunar Day का समय लगेगा अपने एक्सपेरिमेंट के लिए यानी रिसर्चर के लिए 1 Lunar Day = Earth 29 day 1 महीना लगेगा रिसर्च के लिए इसकी लैंडिंग 23 तारीख को होगी और तब से इसको इन्फॉर्मेशन के लिए 14 दिन लगेगा।

जरूर पढ़े :- 

Telegram channel
Whatsapp Channel

Leave a Comment