21 साल से भी ज्यादा पुराना बिलकिस बानो मामला एक बार फिर चर्चा में है।

सोमवार को उच्चतम न्यायालय ने इस मामले के 11 दोषियों की रिहाई का गुजरात सरकार का फैसला रद्द कर दिया।

अदालत ने दोषियों को दो हफ्ते के भीतर पुन: आत्मसमर्पण करने का भी आदेश दिया।

ये सभी दोषी गुजरात के गोधरा में साम्प्रदायिक हिंसा के दौरान बिलकिस बानो नाम की महिला से सामूहिक दुष्कर्म किया

और फिर उनके परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी गई थी

जिसके मामले में यह काफी समय से अपनी सजा को काट रहे थे

लेकिन सरकार के लिए गए इस फैसले पर काफी लोग नाराज हुए है

क्यूकि  इन्हें 15 अगस्त 2023 को गुजरात सरकार ने रिहा कर दिया था।

आगे की जानकारी इस Telegram पर